अंकल को एक छोटा सा कंबल मिला, बारात छोड़कर दूल्हा लौटा

अंकल को एक छोटा सा कंबल मिला, बारात छोड़कर दूल्हा लौटा

हरियाणा के अंबाला में एक बारात में उसके चाचा को एक छोटा सा कंबल मिलने पर दूल्हे को गुस्सा आ गया। उसने बारात लौटा दी। बाद में उसे भी बिना दुल्हन के लौटना पड़ा। जुलूस पिंजौर से अंबाला कैंट से बैंड-बाजे के साथ निकला। दूल्हा एक डेंटल सर्जन है। रिश्तेदारों ने समझाने की कोशिश की, लेकिन लड़की ने भी शादी करने से इनकार कर दिया। वह कहता है कि यह हालत है तो लड़की अपने ससुराल चली जाएगी तो क्या होगा। पुलिस ने लड़कों से लड़की का खर्च निकालने के लिए दोनों पक्षों से बात करके मामला खत्म कर दिया।

मंगलवार रात को डेंटल सर्जन दूल्हे को लेकर दूल्हे के घर अंबाला कैंट पहुंचे। बारात ने खाना-पीना शुरू कर दिया। उधर, वर-वधू पक्ष में मिलने की रस्म शुरू हो गई। इस बीच, जब दूल्हे के चाचा को एक छोटे से कंबल के साथ मंगाया गया, तो विवाद हुआ। दूल्हे के परिवार के सदस्यों ने कहा कि यह उनके लिए अपमान था। इस पर दोनों पक्षों में बहस हुई। दूल्हे ने नाराजगी जाहिर की और बारात को वापस भेज दिया।

मामला रात में पुलिस तक पहुंचा। पुलिस ने दोनों पक्षों से बात करके उसे समझाने का प्रयास किया। लेकिन यह काम नहीं आया। बाद में, लड़का शादी के लिए राजी हो गया, लेकिन लड़की ने कहा कि जब अभी यह स्थिति है, तो लड़की के ससुराल पहुंचने पर क्या स्थिति होगी। ऐसे में शादी नहीं करने का फैसला किया गया।

बुधवार सुबह पुलिस की मौजूदगी में, जब लड़के शादी की तैयारियों के लिए लड़की के खर्च के लिए साढ़े चार लाख रुपये देने को तैयार हुए, तो दोनों पक्ष वापस चले गए। मामले में थाना प्रभारी विजय कुमार ने कहा कि शिकायत दुल्हन की तरफ से आई थी, जिसके बाद दोनों पक्षों को थाने बुलाया गया था।

बाद में दोनों पक्षों के बीच आपसी बातचीत के बाद समझौता हुआ है। दूल्हा बिना दुल्हन के वापस आ गया है, इसलिए मुकदमा दर्ज करने के लिए कोई कार्रवाई नहीं की गई है।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Releated

दस साल तक सत्ता में रही बीजेपी को हर सीट पर हार का सामना करना पड़ा

दस साल तक सत्ता में रही बीजेपी को हर सीट पर हार का सामना करना पड़ा

अगले साल प्रस्तावित निगम चुनावों से ठीक पहले आयोजित पांच वार्डों में हुए उपचुनाव के नतीजों ने कई तस्वीरें खींची हैं। कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। आंकड़े बताते हैं कि पिछले दस चुनावों की तुलना में लगातार दस वर्षों से सत्ता में रही भाजपा की साख हर सीट पर गिरी है। वह न […]

उपचुनाव के नतीजों ने भाजपा के लिए चुनौती बढ़ा दी!

उपचुनाव के नतीजों ने भाजपा के लिए चुनौती बढ़ा दी!

निगम उपचुनाव ने यह स्पष्ट कर दिया है कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को इस बार निगम में अपनी पकड़ बनाए रखने के लिए एक बड़े दंगल में उतरना होगा। भाजपा अब तक की चुनावी रणनीति में बहुमत हासिल कर रही है और भाजपा ने इसके लिए जो भी रणनीति अपनाई है, उससे भाजपा को […]