पंजाब नगर निगम चुनाव में अकाली दल को झटका, कांग्रेस का शानदार प्रदर्शन

पंजाब नगर निगम चुनाव में अकाली दल को झटका, कांग्रेस का शानदार प्रदर्शन

पंजाब म्युनिसिपल इलेक्शन रिजल्ट २०२१: कांग्रेस ने पंजाब में हुए म्युनिसिपल इलेक्शन में शानदार जीत दर्ज की। पार्टी ने राज्य के आठ नगरपालिका चुनावों में से 6 में जीत हासिल की है, अन्य स्थानों पर वोटों की गिनती जारी है। पार्टी ने अपने 53 साल के इतिहास में पहली बार बठिंडा नगर निगम जीता है। बठिंडा नगर निगम की 50 सीटों में से 43 पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की है। अकाली दल को सिर्फ सात सीटें मिली हैं। आम आदमी पार्टी अपना खाता नहीं खोल पाई है। बठिंडा नगर निगम को अकाली दल का गढ़ माना जाता था।

पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने ट्वीट कर बठिंडा के लोगों को बधाई दी है। मनप्रीत सिंह बादल ने लिखा है कि आज इतिहास बना है, बठिंडा में 53 साल में पहली बार कांग्रेस का मेयर मिलेगा! सभी बठिंडा निवासियों को धन्यवाद। इस शानदार जीत के लिए बठिंडा के लोगों को बधाई। सभी कांग्रेस उम्मीदवारों और कार्यकर्ताओं को बधाई जिन्होंने कड़ी मेहनत करके इसे संभव बनाया।

बता दें कि मेयर पद की दौड़ में जगरूप सिंह गिल का नाम सबसे आगे आ रहा है। अगर जगरूप सिंह गिल मेयर बन जाते हैं, तो वे बठिंडा के पहले कांग्रेस मेयर होंगे। माना जाता है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत बादल कौर की बठिंडा क्षेत्र में मजबूत पकड़ थी, लेकिन चुनाव परिणाम से वह निराश हैं। केंद्र सरकार से समर्थन वापस लेने के बाद अकाली दल के लिए यह पहला चुनाव था जिसमें वह हार गई है।

पंजाब में भी भाजपा ने निराशाजनक प्रदर्शन किया है। भाजपा के लिए सबसे अच्छे नतीजे पठानकोट से आए हैं। पठानकोट में बीजेपी ने 50 में से 11 सीटें जीती हैं। यहां कांग्रेस ने 37 सीटें जीती हैं। नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, कांग्रेस ने अबोहर, बटाला, बठिंडा, कपूरथला, होशियारपुर और मोगा में जीत हासिल की है। वहीं, पठानकोट में कांग्रेस आगे चल रही है।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Releated

दस साल तक सत्ता में रही बीजेपी को हर सीट पर हार का सामना करना पड़ा

दस साल तक सत्ता में रही बीजेपी को हर सीट पर हार का सामना करना पड़ा

अगले साल प्रस्तावित निगम चुनावों से ठीक पहले आयोजित पांच वार्डों में हुए उपचुनाव के नतीजों ने कई तस्वीरें खींची हैं। कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। आंकड़े बताते हैं कि पिछले दस चुनावों की तुलना में लगातार दस वर्षों से सत्ता में रही भाजपा की साख हर सीट पर गिरी है। वह न […]

उपचुनाव के नतीजों ने भाजपा के लिए चुनौती बढ़ा दी!

उपचुनाव के नतीजों ने भाजपा के लिए चुनौती बढ़ा दी!

निगम उपचुनाव ने यह स्पष्ट कर दिया है कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को इस बार निगम में अपनी पकड़ बनाए रखने के लिए एक बड़े दंगल में उतरना होगा। भाजपा अब तक की चुनावी रणनीति में बहुमत हासिल कर रही है और भाजपा ने इसके लिए जो भी रणनीति अपनाई है, उससे भाजपा को […]