समय के साथ समस्याएं हल हो जाती हैं

समय के साथ समस्याएं हल हो जाती हैं

नरपत दान बरन

हर कोई चाहता है कि उसके जीवन में कोई समस्या न हो। एक ही समय में, भले ही एक समस्या समाप्त हो जाए, दूसरा शुरू होता है। यही है, समस्याओं की श्रृंखला जीवन के रूप में निरंतर चलती है। जब समस्याओं का सामना करना पड़ता है, तो सवाल यह भी है कि कितनी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। और कई बार समस्या का सामना करने के बाद भी समस्या बनी रहती है और जीवन छोटा हो जाता है।

ऐसी स्थिति में इंसान में जीवन से निराशा की भावना भी पैदा होती है। इसलिए समग्र रूप से इन समस्याओं के समाधान को जानने के लिए, कुछ समस्याओं के डर से व्यक्ति को विवेक रखना चाहिए। समस्याओं को जीवन के अपरिहार्य हिस्से के रूप में देखना, उनके साथ चलना ही सही मायने में जीवन है।

यदि सब कुछ प्राकृतिक रूप में मिलता है, तो आदमी को जीवन में कुछ भी नहीं करना होगा और जब उसे कुछ भी नहीं करना है, तो जीवन का कोई उद्देश्य नहीं है। दरअसल, समस्याएं जीवन की दशा और दिशा तय करती हैं। हालांकि, एक छोटी कहानी से समस्याओं के रूप को समझा जा सकता है। कहानी इस तरह से है – एक व्यक्ति था जो अपना निजी व्यवसाय चलाता था।

वह अपने जीवन से खुश नहीं था, हर समय वह किसी समस्या से परेशान था। एक बार, शहर से कुछ दूरी पर एक महात्मा का काफिला रुका। शहर में चारों को लेकर खूब चर्चा हुई। कई लोग अपनी समस्याओं को लेकर उनके पास जाने लगे, उस आदमी ने भी महात्मा के दर्शन करने का निश्चय किया। छुट्टी के दिन समय निकालकर उनका काफिला पहुंचा।

चूंकि वहां पहले से ही कई लोगों की भीड़ थी, इसलिए उनका नंबर बहुत लंबे इंतजार के बाद आया। उन्होंने महात्मा से कहा – ‘मैं अपने जीवन में कई समस्याओं से जूझ रहा हूं, हर समय यह समस्या मुझे घेरे रहती है, कभी-कभी ऑफिस का तनाव होता है, कभी-कभी घर में कुछ अनहोनी हो जाती है, और कभी-कभी मैं अपने स्वास्थ्य के बारे में चिंतित रहता हूं। कुछ ऐसे उपाय जिससे मेरे जीवन से सभी समस्याएँ मिट जाएँ और मैं शांति से रह सकूँ।

महात्मा मुस्कुराए और बोले – वत्स, अब रात हो गई है, अब समय नहीं है। मैं कल सुबह आपके सवाल का जवाब दूंगा, लेकिन क्या आप तब तक मेरा थोड़ा काम करेंगे? उन्होंने कहा- महात्मा जरूर। महात्मा ने कहा, वत्स, हमारे काफिले में सौ ऊंट हैं, मैं चाहता हूं कि तुम आज रात उनकी देखभाल करो। जब सौ ऊंट बैठते हैं, तब आप भी सो जाते हैं।

अगली सुबह महात्मा ने उस आदमी से मुलाकात की और पूछा – कहो वत्स, नींद अच्छी है। उन्होंने व्याकुल आसन करते हुए कहा – जहाँ महात्मा जी, मैं एक क्षण के लिए भी नहीं सो पाया। मैंने बहुत कोशिश की लेकिन मैं सभी ऊंटों को नहीं बैठा सका, कुछ ऊंट खड़े हो गए होंगे। सुबह तक नींद नहीं आई। महात्मा ने कहा – वत्स, तुम सही हो।

कल रात आपने महसूस किया कि चाहे जितने ऊँट कोशिश कर लें, सभी ऊँट एक साथ नहीं बैठ सकते, अगर आप एक को बैठते हैं, तो कोई और खड़ा हो जाएगा। जीवन में समस्याएं भी वैसी ही रहती हैं। वत्स, जब तक जीवन है, ये समस्याएं बनी रहती हैं, कभी कम और कभी ज्यादा। तो हमें क्या करना चाहिए? आदमी ने पूछा। महात्मा ने इत्मीनान से जवाब दिया – इन समस्याओं के बावजूद, जीवन का आनंद लेना सीखें, जैसे कल रात क्या हुआ था?

1) कई ऊंट रात भर बैठे रहे
2) आप में से कई लोग अपने प्रयास के साथ बैठ गए,
3) कई ऊंट आपके प्रयासों के बाद भी नहीं बैठे और बाद में आपने पाया कि उनमें से कुछ अपने दम पर बैठे थे।
… .आप उनसे कुछ समझते हैं? समस्याएं भी वही हैं।
1) कुछ अपने आप समाप्त हो जाता है,
2) आप अपने प्रयास से कुछ हल करें
३) बहुत कोशिश करने पर भी कुछ हल नहीं होता

…। ऐसी समस्याओं को समय पर छोड़ दें, वे नियत समय में अपने आप गायब हो जाते हैं। यदि जीवन है, तो कुछ समस्याएं होंगी, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप दिन-रात उनके बारे में सोचते रहें।
समस्याओं को अलग रखें और जीवन का आनंद लें, शांति से सोएं, जब उनका समय आएगा तो वे खुद को हल करेंगे। इस कहानी के सार को जीवन में उतारकर, हम मन को समस्याओं से मुक्त रखकर आनंद का जीवन जी सकते हैं।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Releated

3 साल का बच्चा फटे पेट के साथ निकला - पिता का आरोप, मौत

3 साल का बच्चा फटे पेट के साथ निकला – पिता का आरोप, मौत

कौशाम्बी जिले के पिपरी थाना क्षेत्र के एक निजी अस्पताल में इलाज के दौरान तीन साल की बच्ची की मौत के मामले में पुलिस ने शनिवार को एक डॉक्टर के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक समर बहादुर सिंह ने बताया कि केशली नाम की तीन साल की लड़की, प्रयागराज के निवासी मुकेश मिश्रा, […]

पुरानी बाइक यहां 30 हजार से 40 हजार रुपये में पाएं, जानिए पूरी डिटेल

पुरानी बाइक यहां 30 हजार से 40 हजार रुपये में पाएं, जानिए पूरी डिटेल

भारतीय बाजार में पुरानी बाइक्स की काफी मांग है। कई लोग अपनी जरूरतों के लिए बाइक खरीदते हैं। बाजार में कई विकल्प उपलब्ध हैं जिनके माध्यम से पुरानी बाइक खरीदी जा सकती है। ऐसे में, जब कोई पहली बार पुरानी बाइक खरीदने की सोचता है, तो उसके मन में कई सवाल जरूर आते हैं। ग्राहक […]